Like on Facebook

Latest Post

Wednesday, 14 February 2018

Maha Upadesh of Aadishri, Part - 8; आदिश्री के महा उपदेश, भाग - 8


आदिश्री के महा उपदेशभाग - 8

(आदिश्रीअरुण


Maha Upadesh of Aadishri, Part - 8; आदिश्री के महा उपदेश, भाग - 8


आजकल के मनुष्य के जीवन की योजना का आधार ही है भय । मनुष्य हमेशा ही भय का कारण ढूँढ़ लेता है और उसी के आधार पर कर्म करने का निश्चय करता है । जीवन में जिन मार्गों का वे चुनाव करते हैं वे चुनाव भी मनुष्य भय के कारण ही करते हैं । अब प्रश्न यह उठता है कि क्या यह भय वास्तविक होता है ? भय का अर्थ है आने वाले विपत्ति की कल्पना। समय का स्वामी कौन है ? न तो आप समय के स्वामी हैं न आपके शत्रु और न ही आपके प्रतिद्वन्दी । समय तो केवल ईश्वर के आधीन चलता है । तो क्या यदि कोई आपको हानि पहुँचाने के लिए केवल योजना बनाता है तो वास्तव में वो आपको हानि पहुंचा सकता है ? नहीं, कभी नहीं । किन्तु भय से भरा हुआ ह्रदय आपको अधिक हानि पहुंचता है । क्योंकि विपत्ति के समय लिया गया निर्णय हमेशा ही अयोग्य निर्णय होता है और यह अयोग्य निर्णय हमेशा ही विपत्ति को अत्यधिक पीड़ादायक बनाता है । किन्तु विश्वास से भरा ह्रदय विपत्ति के समय को भी बड़ा ही सरलता से पार कर जाता है । अर्थात जिस कारण से मनष्य भय को स्थान देता है भय ठीक उसके विपड़ीत  कार्य करता है ।

Post a Comment