Latest Post

Tuesday, 27 December 2016

Message of AADISHRI on Merry Christmas

मेरी क्रिसमस के शुभ अवसर पर आदिश्री अरुण का सन्देश 


मेरी क्रिसमस के शुभ अवसर पर ईश्वर पुत्र अरुण ने लोगों को सन्देश देते हुए कहा कि -  प्रथम मनुष्य अर्थात प्रथम आदम जीवित प्राणी बना और अन्तिम आदम जीवनदायक आत्मा बना। परन्तु आदम पहले आत्मिक न  था, पर स्वाभाविक था, इसके बाद वह आत्मिक हुआ । अर्थात आदम पहले आत्मिक देह (शरीर) में नहीं था बल्कि वह स्वाभाविक देह (शरीर) में था। ईश्वर का कहना नहीं मान कर उसने पाप किया और उस पाप के कारण वह स्वाभाविक देह (शरीर) से आत्मिक  देह (शरीर) में आगया ।  स्वाभाविक देह (शरीर) में लोग नहीं मरते हैं और आत्मिक देह (शरीर) में लोगों को मरना पड़ता है । मनुष्य को आत्मिक देह (शरीर) से स्वाभाविक देह (शरीर) में ले जाने के लिए मैं पिता की गोद से उतर कर धरती पर आया हूँ । 
Post a Comment