Header Ads

Top News
recent

13 Technique to make ourselves Happy / खुश रहने के लिए क्या हैं 13 उपाय ?

खुश रहने के लिए क्या हैं 13 उपाय ?



ईश्वर पुत्र अरुण 

13 Technique to make ourselves Happy

मनःविचार की शक्ति से मन की स्थिति को बदलने की  कशिश की  जाय और हर स्थिति में अच्छे पहलु को ही देखा जाय तो वह हर जगह सुखद परिणाम दे सकती है । अगर कोई व्यक्ति मनःविचार की शक्ति से नकारात्मक पहलू से देखेगा तो उसे जीवन में हमेशा दुःख ही मिलेगा ।








अगर यदि अपने मनःविचार की शक्ति से अपने नजरिये को न बदला तो आपको कितना भी सुख क्यों न मिल जाय अथवा आपको स्वर्ग ही क्यों न मिल जाय; उसमें भी आप दुःख ही खोज लेंगे ।   
निष्कर्षतः हम कह सकते हैं कि खुशी एक ऐसी उर्जा है जो व्यक्ति को सकारात्मकता और आत्मविश्वास से भर देती है । यह  उर्जा व्यक्ति के मन की अवस्था को प्रभावित करती है और उसके अंदर एक ऐसा आभास भर देती है जिसकी वजह से वह व्यक्ति आनंदित और संतुष्ट महसूस करता है। प्रत्येक  व्यक्ति खुशी को किसी वस्तु में खोजने की कोशिश करता है किन्तु खुशी बाहरी वस्तुओं में नहीं बल्कि  व्यक्ति के अंदर ही है । बस जरूरत है  इसेको  ढूंढने की। किन्तु व्यक्ति दिन भर अनेक कार्यो में उलझा रहता है जिसकी वजह से वह  अपने दिमाग को शांत नहीं   रख पाता और इस तरह वो चाह कर भी खुश नहीं रह पाता है ।

अलग - अलग व्यक्ति के लिए खुशी का अर्थ अलग - अलग होता है । जैसे - विधार्थियों के लिए परीक्षा में अच्छे अंक लाना ही उसकी खुशी होती है,  किसी के कर्मचारी के लिए अच्छे पद पर पहुंचना खुशी का कारण होता है, कुछ व्यक्ति को घूमना फिरना पसंद है तो कोई संगीत में अपनी खुशी को खोजता है। मेरे कहने का अर्थ यह है कि हर व्यक्ति उस जगह खुश रहता है जहाँ उसका मन उसे संतुष्टि देता है और जिस चीज को वो सकारात्मक रूप से देखता है ।


आज हम आपको 13 उपाय बता रहे हैं  जिनको अपनाकर आप अपने  आपको खुश रख सकते हैं :


(1) खुद से  प्यार करें : खुश रहने के लिए सबसे जरूरी है कि आप खुद को बिना किसी शर्त के  खुद को प्यार करें  ।  आप अपने स्वास्थ्य पर ध्यान और अपने आत्मविश्वास को बढ़ाएं  ।  खुद को प्यार करना कोई स्वार्थ नहीं  है बल्कि ये आपके लिए जरूरी भी है क्योकि जब तक आप खुद को प्यार नहीं  करेंगे तब तक आप दूसरों को भी प्यार नहीं दे सकते ।


(2) गड़े मुर्दे ना उखाडें : हर व्यक्ति के जीवन में कुछ अच्छे तो कुछ बुरे दिन या वक़्त जरुर आता है किन्तु ये जरूरी नहीं  है कि आप हर वक्त बीते हुए कल के बारे में विचार करके खुद को परेशान और दुखी रखें  ।  बल्कि आप अपने वर्तमान और भविष्य के बारे में विचार करें और उसे संवारने की कोशिश करें । अगर यदि वर्तमान और भविष्य को सवांरने कि कोशिश नहीं करेंगे तो  इससे न तो आपको इस वक्त खुशी मिलेगी और न भविष्य को लेकर आप कभी संतुष्ट रहेंगे ।


(3) खुद को किसी से तुलना  ना करें: तुलना आपमें हीन भावना भी ला सकती है और घमंड भी । इसलिए तुलना से जितना हो सके उतना बचें ।  तुलना करते वक़्त अगर आपको ऐसा लगा कि कोई आपसे अच्छा और आपसे आगे है तो आप खुद के प्रति गलत विचार बना लेते हैं और यदि आपको ऐसा लगा कि आप उससे अच्छे हो तो आपके अंदर घमंड आजाता है ;  जो आपके पतन का कारण बनेगा । इससे आपको शांति और खुशी कभी नही मिल पायेगी ।


 (4) 6 - 7  घंटे सोएँ  : हर व्यक्ति को  कम से कम 6 - 7 घंटे तक जरुर सोना  चाहिए । इससे आप मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से स्वस्थ रह सकते हैं । यह आपके खुशी के लिए बहुत जरूरी है ।  नींद से पहले भी आपके मन को शांत रहना जरूरी है ताकि आप सोने से पहले किसी बात पर विचार ना कर रहें हो और आप चैन की नींद ले सकें ।


(5) बड़े सपने देखें : सपने देखने में आपका कोई पैसा तो खर्च नहीं होता है किन्तु सपने आपको प्रेरित जरुर करते हैं  । इसलिए आप बड़े - बड़े सपने देखें, वे सपने देखें जो आपको खुशी देते हो, जिनको पूरा करने के लिए आप मेहनत कर सकते हो और जिनके पूरा होने पर आपको दुगनी खुशी मिले ।


(6) इच्छाओं को कम करें : इच्छाओं पर किसी का बस नही होता किन्तु आप अपनी इच्छाओं के लिए एक प्लान तो तैयार कर सकते हैं ।  अपनी इच्छाओं की जरूरत को समझते हुए उन्हें कम भी कर सकते हैं । इसलिए आप अपनी इच्छाओं को ध्यान से चुने और उन्हें जरूरत के हिसाब से पूरा करने की कोशिश करें ताकि आपको मन से संतुष्टि प्राप्त हो सके ।


 (7) घृणा से बचें : किसी से नफरत करना या किसी के प्रति बुरा विचार रखना या फिर किसी से बदले की भावना रखना भी आपको संतुष्ट नहीं  रहने देगा । ऐसे लोग हमेशा अपने बारे में ना सोचते हुए भी दूसरों  को नुकसान पहुँचाने के बारे में सोचते हैं । इसकी वजह से ये अपना ही नुकसान कर लेते हैं ।आप ऐसा बनाने से जरुर बचें । अपने जीवन को समझिए और जानिए कि ये बहुत ही छोटा है;  तो अपने जीवन को व्यर्थ के कार्य में ना लगते हुए इसे खुद के लिए जियें ।


(8) दुसरो की मदद करें : दूसरों की मदद से भी आपको सच्ची खुशी मिलेगी । ये सिर्फ कहने की बात नहीं है  । आप एक बार इसे करके जरुर देखें  । जरा सोचिए  जब आप किसी रोती हुई बच्ची को चुप करने के लिए उसे कोई लोलीपोप देते हैं  और वो खुश होकर आपसे चिपक जाती है तो उस वक़्त आपको  उसकी खुशी देखकर कैसा लगेगा ? उस वक़्त आपको समझ में आयेगा कि ये जीवन कितना अमूल्य है और इस जीवन में खुश रहना उससे भी कहीं अधिक जरुरी है ।


(9) तनाव मुक्त रहें : तनाव व्यक्ति का सबसे बड़ा दुश्मन होता है क्योंकि इसकी वजह से व्यक्ति ना सिर्फ खुद की बल्कि अपने आसपास के लोगो की खुशी को भी छीन लेता है । तनावग्रस्त व्यक्ति से खुशियाँ कोसो दूर भाग जाती है । इससे स्वभाव बदल जाता है । इससे चिड़चिड़ापन उत्पन्न हो जाता है ।  यह किस भी चीज पर ध्यान केन्द्रित नहीं करने देता है । इसलिए अपने आपको खुश रखें ताकि आप तनाव मुक्त रह सकें ।
(10) झूठ न बोलें : आपने सुना ही होगा कि एक झूठ को छुपाने के लिए आपको सैकड़ों झूठ बोलने पड़ते हैं और इससे आपके मन पर भोझ पड़ जाता है । आप हमेशा इन झूठों में ही उलझें रहते हैं । आपको खुद समझ नहीं रहता कि आपको कब क्या करना चाहिए और आपने कब क्या  कहा था ?  इसलिए अपने मन को हल्का रखें और मन को हल्का रखने के लिए आप झूठ से बचें ।


(11) पांच विकारों को त्याग दें : अगर आपको सच्ची ख़ुशी या आत्मिक ख़ुशी को प्राप्त करना है तो आपको पांच विकार -  काम, क्रोध, लोभ, मोह और घृणा को त्यागना पड़ेगा । ये 5 चीज ऐसी है जिसमें हर व्यक्ति उलझा रहता है और ये सबकी जरूरत का एक हिस्सा भी है किन्तु इनको सिर्फ जरूरत तक ही रहने दें तो  ठीक रहेगा  । किन्तु इनमें से एक की भी अति आपको असंतुष्ट और अशांत कर सकती है  जिसकी वजह से आप खुश नहीं रह सकते हैं ।


(12) अच्छा आहार लें : खाना व्यक्ति को उर्जावान बनता है जिसकी वजह से व्यक्ति अपने कार्यों पर पूरी तरह ध्यान केन्द्रित कर उनमें सफल हो पाता है  । इसलिए जरूरी है कि आप रोज पौष्टिक, स्वच्छ और उर्जावान खाना खायें । किसी भी कार्य में सफलता हासिल करने के लिए लोगों को स्वस्थ रहना जरूरी है जब आप अपने कार्यों में सफल होंगे तब आप 100 % खुश रहेंगे ।


(13)आकर्षक बने रहें  : आकर्षक बने रहने से व्यक्ति हर किसी को अच्छा लगता है  । उसका आत्मविश्वास सांतवे आसमान पर होता है और वो खुशी से हर कार्य को सफलता पूर्वक करता है ।
आकर्षक बनने के लिए आप अपने चेहरे, कपड़ों और शरीर पर ध्यान दें. कपडे जहाँ आपके व्यक्तित्व की पहचान बनाते हैं तो चेहरा आपको भावनाओं और आपके स्वभाव को बताता है । साथ ही साथ आपका स्वस्थ शरीर देखकर सभी को आपकी  ओर आकर्षित करता है ।  इस तरह सभी आपके पास रहते हैं और खुशियाँ आपके चारों तरफ आपके पीछे घुमती रहती है ।
Post a Comment
Powered by Blogger.