Header Ads

Top News
recent

आप ऐसा क्या करें कि परमेश्वर आपकी प्रार्थना सुन लें ?

आप क्या करें कि परमेश्वर आपकी प्रार्थना सुने इसको जानना जरूरी है। परमेश्वर आपकी सुनें  इसके लिए बेहद जरूरी है कि आप प्रार्थना करें; लेकिन परमेश्वर की प्रार्थना किस प्रकार की जाय सबसे पहले इस बात को जानिए। परमेश्वर से प्रार्थना करने की एक बड़ी वजह यह है कि वे खुद हमें प्रार्थना करने का बढावा देते हैं। उनका वचन हमें प्रेरणा देती है या यों कहिये कि उनका वचन हमें इस बात के लिए उत्तेजित करता है कि - "किसी भी बात की चिंता मत करो। किन्तु हर बात में तुम्हारा निवेदन, प्रार्थना और बिनती धन्यवाद के साथ परमेश्वर के सम्मुख उपस्थित किये जाएँ। तब परमेश्वर की शान्ति, जो समझ से बिलकुल पड़े है, तुम्हारे विचारों को परमेश्वर में सुरक्षित रखेगी।" वास्तव में जो पुरे संसार का मालिक है उन्होंने हमसब के लिए कैसा प्यार भरा इंतजाम किया है जरा सोचिए। हमें इस इंतजाम के लिए परमेश्वर का बहुत शुक्रगुजार होना चाहिए और प्रार्थना करने में कभी भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। 
परमेश्वर की प्रार्थना करने का दूसरा वजह यह है कि परमेश्वर से हर रोज और बार - बार प्रार्थना करने से उसके साथ रिस्ता मजबूत होता है।  एक सच्चे दोस्त एक - दूसरे से सिर्फ तभी बात नहीं करते जब उन्हें किसी चीज की जरुरत होती है। इसके बजाय, वे घंटों एक दूसरे से बातें करते हैं। वे सोचते हैं, कैसा महशूस करते हैं और किस बात से पड़ेशान हैं - ये साड़ी बातें खुल कर एक दूसरे को बताते हैं। वे एक - दूसरे की सच्चे दिल से परवाह करते हैं। यही कारण  है कि उनकी दोस्ती दिनों - दिन पक्की होती जाती है। परमेश्वर से रिस्ता बहुत मायने में इसी तरह का ही है। 

आपको पता होना चाहिए कि परमेश्वर सिर्फ एक शक्ति ही नहीं बल्कि वे आपके पिता भी हैं, आपके माता भी हैं, आपके भाई भी हैं और आपके दोस्त भी हैं। इसलिए प्रार्थना में आप अपने परमेश्वर के सामने अपने विचार और अपने दिल की हर बात खुल कर बताइये। ऐसा करने से परमेश्वर और आपके बीच का सम्बन्ध और पक्का होगा। तब परमेश्वर आपकी हर बात सुनेंगे और आपको परमेश्वर से हर मदद समय से मिलेगा - आदि श्री अरुण 
Post a Comment
Powered by Blogger.