Latest Post

Thursday, 9 June 2016

एक सत्य और

आदि श्री अरुण :
ध्यान का  मूल आधार गुरु रूप है,
पूजा का मूल आधार गुरु पाँव।
मूल नाम गुरु वचन है,
मूल सत्य सदभाव।  
Post a Comment