Header Ads

Top News
recent

वचन की शक्ति

ईश्वर पुत्र अरुण ने कहा  कि  तुम वचन और परमेश्वर की सामर्थ्य को नहीं जानते हो  इस कारण तुम धूल में पड़े  हो ।   (धर्मशास्त्र, मत्ती 22:29) वचन से ही हमें जीवन मिलता है । (धर्मशास्त्र, यूहन्ना 20:31) वचन हमें पवित्र करता है (धर्मशास्त्र, यूहन्ना 17:17) वचन हमारी उन्नति कर सकता है । (धर्मशास्त्र, प्रेरितों के काम 20:32) वचन दिल को खुश करता है । (धर्मशास्त्र, भजनसंहिता 19:8) वचन पाप से दूर करता है (धर्मशास्त्र, भजनसंहिता 119:11) वचन दिलों को आत्मिक गीतों से भरता है । (धर्मशास्त्र, कुलुस्सियों 3:16) वचन भविष्य के लिए चेतावनी देता है । (धर्मशास्त्र, 1कुरिन्थियों 10:11-12) वचन से ही दुष्ट पर जय पाई जा सकती है । (धर्मशास्त्र, 1यूहन्ना 2:14) वचन ही चँगाई देता है (धर्मशास्त्र,  मत्ती 8:16) वचन उद्धार प्राप्त करने के लिए बुद्धिमान बनाता है । (धर्मशास्त्र, 1तीमुथियुस 3:15) वचन प्रभावशाली है (धर्मशास्त्र, 1थिस्सलुनीकियों 2:13) वचन हमारे प्राणों का उद्धार करता है । (धर्मशास्त्र, याकूब 1:21) वचन अनन्त जीवन के लिए पक्का विश्वास दिलाता है (धर्मशास्त्र, 1यूहन्ना 5:13) वचन कभी भी टलता नहीं (धर्मशास्त्र, मत्ती 24:35) वचन को खुदा ने अपने बड़े  नाम से भी अधिक महत्व दिया  धर्मशास्त्र, (भजनसंहिता 138:2)
Post a Comment
Powered by Blogger.