Latest Post

Monday, 23 May 2016

एक आवाज

नमन करो प्रभु कल्कि की
सबको बचाने आया जगत में
ग्रहण करो तुम उनको आज
प्रेम की है बहती धार
उसको बनालो खेवनहार
नाव लगा लो पार।
कली विनाश कर आएगा जब
ले जाएगा अपने साथ
आशा प्रभु से अब तो यही है
चलो तुम उनके साथ.
हर दम होंगे साथ
ख़ुशी शांति और आराम
आएगा वह लेने तुम्हें  भी
रहना तुम तैयार। 
Post a Comment