Like on Facebook

Latest Post

Sunday, 22 May 2016

एक परामर्श


हे मनुष्य ! तुम मौत को देख कर विचलित मत हो। मौत को आते देख कर सूरत शब्द योग में अपने को लगा दे। मौत, विचलित मन वाले व्यक्ति को उसी तरह बहा  ले जाती है, जिस तरह नींद में गाँउ  के सोये हुए लोग बाढ़ में बह् जाते हैं - आदि श्री अरुण    
Post a Comment