Latest Post

Wednesday, 16 December 2015

सूरत शब्द योग में पाँच ब्रह्म में कौन - कौन से पाँच शब्द हैं ? - ईश्वर पुत्र अरुण


परमेश्वर की आत्मा पाँच ब्रह्म से होकर  मनुष्य के शरीर में उतरी उस समय पाँचों   ब्रह्म में पाँच भिन्न - भिन्न शब्द उत्पन्न हुए जो निम्न लिखित है :
अनामी                                  आदि सत / परम पुरुष 
अगम                                    कार्य ब्रह्म             
अलख                                    वैकुण्ठ   
(१ ) ध्वन्यात्मक ॐ                      सत लोक    (१ ) वीणा / वैग पाईप 
 (२) सोहम ब्रह्म                           भँवर गुफा   (२) वंशी 
 (३) रा रं ब्रह्म                              दसम द्वार (३) सारंगी / सितार 
(४)  माया ब्रह्म                             त्रिकुटी      (४) ताल, गर्जना  
(५) ज्योति निरंजन                        सहस्रार    (५) घंटा, शंख  
तीसरा तिल  / तीसरी आँख  
download (3)

download (1)
AGYA CHAKRA / AJNA CHAKRA / SUSHUMNA / THIRD EYE /
आज्ञाचक्र / अजना  चक्र / सुषुम्ना / तीसरी आँख /
TENTH DOOR / SINGLE EYE /
दसम द्वार /         केवल एक आँख / 
THROAT CHAKRA
कंठ चक्र /  विशुद्ध चक्र
HEART CHAKRA
हर्ट चक्र / अनाहत चक्र
NAVEL CHAKRA
नाभि  चक्र /  मणिपूर चक्र
LING / GENITAL CHAKRA
लिंग चक्र / स्वाधिष्ठान चक्र
RECTUM – ROOT CHAKRA
रेक्टम चक्र / मूलाधार चक्र
Post a Comment