Latest Post

Saturday, 25 July 2015

मनुष्य के साथ ईश्वर की प्रतिज्ञा


ईश्वर धरती पर अवतार लेकर  अपने नए नाम कल्कि नाम  से आए। उन्होंने  मनुष्य से प्रतिज्ञा किया कि मैं तुम्हें वो हर चीज दूंगा जो तुम्हारे लिए परम हितकारक है। वह परम हितकारक  चीज क्या है जिसके लिए परमेश्वर ने मनुष्य से वादा किया है  :-
(१) निश्चित ही मैं तुम्हारी वीमारी और दुःख को दूर किया  करूंगा । 
(२) निश्चित ही मैं तुम्हें मुक्ति का मार्ग बताऊँगा क्योंकि मैं  तुम में  से हर एक से बहुत प्यार करता हूँ  । 
(३)इस संसार में तुम्हें बहुत से कष्ट आएंगे परन्तु वे तुम्हें नुक्सान नहीं पहुंचाएंगे ; क्योंकि मैंने संसार को जीत लिया है। 
(४) मत डर क्योंकि तेरी आशा फिर नहीं टूटेगी।  मत घबरा क्योंकि तू फिर लज्जित न होगा और तुझपर स्याही न छायेगी। 
(५) मेरी ओर कान लगाओ और मेरे पास आओ, तब तुम जीवित रहोगे। 
(६) अनादर के बदले तुम दूने भाग का अधिकारी होगे। 
(७) निश्चित ही मैं जगत के अन्त  तक हमेशा तुम्हारे साथ रहूँगा। 
 निश्चित ही ईश्वर तुम्हारी वीमारी एवं दुख को दूर करेंगे जबकि लोगों ने उनपर दोष मढ़ा। लेकिन तुम में से हर एक से ईश्वर बहुत प्यार करते हैं इस  कारण ईश्वर तुम्हें मुक्ति प्रदान करेंगे। चूँकि  तुम ईश्वर की प्रार्थना दिल से करते हो इसलिए तुम उनके नजदीकी बनकर उनके साथ रहोगे। संसार में तुम्हें कष्ट होगा किन्तु धीरज रखो वह तुम्हें नुकसान नहीं पहुँचायेगा क्योंकि  ईश्वर ने  संसार को जीत लिया है। जाँच और परखने का काम तो चलता ही रहेगा परन्तु वह तुमको छूएगा भी नहीं। निश्चित ही ईश्वर  हर परिस्थितियों में तुम्हारी मदद करेंगे ; हमेशा तुम्हारे साथ रह कर तुम्हें मार्गदर्शन करेंगे। धर्मशास्त्र , भजन संहिता ३४:१९ में ईश्वर ने कहा  कि धर्मी पर बहुत सी विपत्तियाँ पड़ती तो है परन्तु ईश्वर उनको उन सब विपत्तियों से मुक्त करेंगे । ईश्वर के चमत्कार करने तक की प्रतीक्षा करो और उनके किये गए चमत्कारकों को गिनो कि वो तुम्हारे लिए कितना चमत्कार करते  हैं। धन्य हैं  वो जो ईश्वर का भय मानते हैं और ईश्वर के मार्गों पर चलते हैं। इस संसार में ईश्वर आपके साथ खड़े हैं जो हर विपत्ति में वो आपको सुरक्षा प्रदान करेंगे। ईश्वर राजाओं के राजा हैं; देवों के देव हैं। ईश्वर ने जो कहा  है उसको करने का यही सही  वक्त है।  ईश्वर आपको महिमा का मुकुट देंगे और आपके इच्छाओं को पूरा करेंगे। इसलिए केवल भगवान नारायण श्री कल्कि जी के पर्सोनल नाम की खोज करो और उस नाम का जप संकीर्तन करो  तो आपकी हर मुरादें पूरी होजाएगी।   
Post a Comment